महालक्ष्मी (Temple Of Mumbai)

  • By admin
  • June 10, 2019
  • 0
  • 131 Views

महालक्ष्मी
महालक्ष्मी मंदिर का निर्माण सन 1831 में हुआ था| कहा जाता है की इस मंदिर का निर्माण हिन्दू व्यापारी जिसका नाम धाक जी दादा जी ने कराया था, इस मंदिर को बनाने का मुख्या उद्देश्य मालाबार हिल और वर्ली को जोड़ने के निर्माण हेतु किया गया था इसके निर्माण के तहत इन दोनों को क्षेत्रो को जोड़ने वाली दीवार टूटी जा रही थी, ब्रिटिश इंजीनीर भी इस चीज़ को समज़ह नहीं पारहे थे तब उस समय एक भारतीय चीफ इंजीनियर को महालक्ष्मी जी ने सपने में दर्शन देकर की वर्ली की पास समुद्र में तुम्हे मेरी तस्वीर दिखाई देगी सपने के अनुसार वो इंजीनियर उसी स्थान पर पंहुचा और खोज करने लगा, और खोज करने के खोज करते समय ही उसे वही पर महालक्ष्मी की मूर्ति मिली, इस घटना को देखकर उसने वो मुर्तिओ की जगह एक छोटा सा मंदिर बना दिया,इसके बाद निर्माण कार्य बड़ी ही आसानी से संपन्न हुआ|

मंदिर के अंदर तीन देवियो की प्रतिमाये है देवी महासरस्वती, देवी महालक्ष्मी और देवी महाकाली और उन देवियो की मूर्तियों में सोने की नथ और चूडिया और साथ ही साथ मोतियों से बने हुए हार इन तीनो मूर्तियों को सुसज्जित करते हैं, महालक्मी माता की मूर्ति ने माताको शेर की सवारी पर सवार क्र के महिषासुर का वध करते हुए दिखाया गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *