मुम्बा देवी मंदिर की अपार महिमा

  • By admin
  • May 10, 2019
  • 0
  • 120 Views

मुम्बा देवी मंदिर
मुंबई महाराष्ट्र की राजधानी है, मुंबई में सबसे अधिक प्रमुख स्थल मुम्बा देवी का महाराष्ट्र के लोगो का कहना है की मुंबई नाम मुम्बा देवी के नाम से ही रखा गया है मुम्बा + आई ( आई का मतलब मराठी में माँ होता है ) मुम्बा देवी के नाम पर ही महाराष्ट्र की राजधानी का नाम रखा है मुंबई ,

मुम्बा देवी का मंदिर तक़रीबन 400 वर्ष पुराना है महाराष्ट्र में मुम्बा देवी मंदिर की अत्यधिक मान्यता है कहा जाता है की इस मंदिर की स्थापना कोली समाज जो मछुवारो की बस्ती में रहने वाले लोगो ने बोरीबन्दर में मुम्बा देवी मंदिर की स्थापना की, इस मंदिर का निर्माण सन 1737 में हुआ था अंग्रेजो के शासन के दौरान मुम्बा देवी मंदिर को मरीन लाइन पूर्व क्षेत्र के बाजार में बीचो – बीच स्थापित किया |
इस मंदिर के निर्माण के लिए पाण्डु सेठ ने अपनी भूमि मंदिर के वासियो को दान में दी थी, और शुरू के दिनों में पाण्डु सेठ का परिवार मुम्बा देवी मंदिर की देखरेख करता था | बाद के वर्षो में मुंबई के हाईकोर्ट ने न्यास को मुम्बा देवी मंदिर की देखरेख की बागडोर न्यास को सौप दी , यह मंदिर अत्यधिक आकर्षित है, मुम्बा माता की मूर्ति अत्यधिक भव्य है इस भव्य मूर्ति का नारंगी चेहरे वाली रजत मुकुट से सुशोभित,मुम्बा देवी की मूर्ति इस मंदिर की शोभा बढाती है, इस मंदिर में माँ अन्नपूर्णा और माता जगदम्बा की मूर्ति मुम्बा देवी के आजु बाजू स्थापित न्यास लोगो ने करवाई थी |
इस मंदिर में प्रति दिन 6 बार आरती करी जाती है, मंदिर में रोजाना लोगो का अच्छा जमावड़ा लगता है मंगलवार के दिन इस मंदिर में श्रद्धालुओं का सैलाब सा उमड़ जाता है, श्रद्धालुओं का मानना है की इस मंदिर में मांगी हुई कोई भी मन्नत कुछ ही दिनों में पूरी हो जाती है मन्नत को मांगने के लिए लोग मंदिर की लकड़ी पर कील से सिक्को को ठोकते है,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *